केंद्र ने आज उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत किया

Spread the love

केंद्र ने आज उच्चतम न्यायालय के उस फैसले का स्वागत किया जिसमें निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार बताया गया है। सरकार ने कहा कि शीर्ष अदालत ने इस मुद्दे पर सिर्फ उसके रुख की ‘पुष्टि’ की है। केंद्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा कि शीर्ष अदालत ने कहा है कि निजता का अधिकार संपूर्ण नहीं है और इस पर तर्कसंगत पाबंदी लगायी जा सकती है। प्रसाद ने कहा, ‘उच्चतम न्यायालय ने उस बात की पुष्टि की है जो सरकार ने संसद में आधार विधेयक को पेश करने के दौरान कहा था। निजता को मौलिक अधिकार होना चाहिए लेकिन इसे तर्कसंगत पाबंदी के अधीन होना चाहिये।’

इस फैसले के जरिये ‘निगरानी के जरिये दबाने’ की भाजपा की विचारधारा को खारिज किये जाने के कांग्रेस के दावों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रसाद ने अपने ट्वीट में कहा, ‘निजी स्वतंत्रता की रक्षा करने में कांग्रेस का क्या रिकॉर्ड रहा है इसे आपातकाल के दौरान देखा गया था।’
 प्रधान न्यायाधीश जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली नौ न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने आज कहा, ‘निजता का अधिकार अनुच्छेद 21 के तहत जीवन और निजी स्वतंत्रता के अधिकार और संविधान के समूचे भाग तीन का स्वाभाविक हिस्सा है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

यात्रियों की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता: रेलवे बोर्ड प्रमुख लोहानी

Spread the love रेलवे बोर्ड के नवनियुक्त अध्यक्ष अश्विनी लोहानी ने आज पदभार संभालने के बाद कहा कि ट्रेन यात्रियों की सुरक्षा रेलवे की सर्वोच्च प्राथमिकता है। रेल मंत्रालय ने लोहानी को बुधवार को रेलवे बोर्ड का अध्यक्ष नियुक्त किया। गौरतलब है कि लोहानी के पूर्ववर्ती ए.के. मित्तल ने पांच […]

You May Like