लखनऊ।उन्नाव गैंगरेप पीड़िता का वाहन जिस तरह से रविवार को हादसे का शिकार हुआ उसके बाद लगातार यह मामला सुर्खियों में बना हुआ है। इस हादसे में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई है और पीड़िता का वकील हादसे में घायल हो गया है।

इस हादसे के बाद प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते हुए इस हादसे के पीछे हत्या की साजिश करार दिया है। वहीं इस पूरे मामले में यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बयान देकर मामले पर सफाई दी है।

डीजीपी ने कहा कि हम निष्पक्ष और निशुल्क जांच करेंगे। प्राथमिक जांच से पता चला है कि ओवरस्पीड ट्रक की वजह से यह एक ऐक्सीडेंट हुआ था। ट्रक ड्राइवर और मालिक को गिरफ्तार कर लिया गया है। अगर परिवार सीबीआई जांच की मांग करता है तो हम यह केस सीबीआई को सौंप देंगे। डीजीपी ने कहा कि ‘सुरक्षा में कोई लापरवाही नहीं हुई है। गाड़ी में जगह नहीं होने के वजह से सुरक्षाकर्मियों को पीड़िता ने रायबरेली साथ नहीं चलने को कहा था।’

वहीं कांग्रेस की विधायक अराधना मिश्रा पीड़िता से मिलने के लिए ट्रामा सेंटर पहुंची थीं। उन्होंने कहा कि मुझे प्रियंका गांधी ने पीड़िता से मिलने के लिए भेजा है। इस घटना की जांच-पड़ताल होनी चाहिए। इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here