भारतीय सेना रोजाना 5 से 6 आतंकियों को ढेर कर रही : राजनाथ सिंह

Spread the love

बेंगलुरु। घाटी में आतंकी घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। मगर भारतीय सेना भी इन हमलों का मुंहतोड़ जवाब दे रही है। इसी का नतीजा है कि रोजान पांच से 6 आतंकी मारे जा रहे हैं। ये कहना है गृह मंत्री राजनाथ सिंह का।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि जवानों की मुस्तैदी की वजह से आतंकी अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो पा रहे हैं। वहीं भारतीय सेना रोजाना पांच से छह आतंकियों को धराशायी कर रही है। उन्होंने कहा कि यदि पाकिस्तान गोलियां चलाता है तो जवानों को उसका मुंहतोड़ जवाब देने को कहा गया है।

गृह मंत्री ने कहा कि भारत विरोधी शक्तियां देश की अर्थव्यवस्था और रणनीतिक हैसियत को कमजोर बनाने में जुटी हैं। आज का सबसे बड़ा खतरा आतंकवाद है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्व मंच पर इस मुद्दे को मजबूती से उठाया है।अधिकांश देशों को इस मुद्दे के समाधान के लिए तैयार किया है।

रविवार को उन्होंने बेंगलुरु में कहा था कि भारतीय सेना को पाकिस्तानी सैनिकों पर पहले गोली नहीं चलाने के लिए कहा है। लेकिन यदि पाकिस्तान गोलियां चलाता है तो अनगिनत गोलियों से उसका जवाब देने को कहा गया है।

डोकलाम के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि भारत अब कमजोर देश नहीं रहा। अब यह मजबूत हो चुका है। पड़ोसी देश चीन के साथ जारी मुद्दों का समाधान करने की स्थिति में आ गया है।

राजनाथ ने कहा, ‘आपको जानना चाहिए कि भारत ने चीन के साथ डोकलाम मुद्दे का किस तरह समाधान किया। खास तौर से ऐसे समय में जब पूरी दुनिया भारत-चीन विवाद की तरफ नजरें जमाए हुई थी। यदि भारत कमजोर देश होता तो वह चीन के साथ डोकलाम मुद्दे को सुलझाने की स्थिति में नहीं रहता।’

सिक्किम सेक्टर के डोकलाम में भारत और चीन की सेना दो महीने से ज्यादा समय तक आमने सामने रही थी। चीन इस क्षेत्र में सड़क बनाने जा रहा था, जिसका भारत और भूटान ने विरोध किया था। कूटनीतिक बातचीत के माध्यम से विवाद का समाधान हो पाया।

सोमवार को तमिलनाडु के अराकोनम में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के पासिंग आउट परेड के बाद राजनाथ ने कहा कि भारत तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था है।

आज इसे शीर्ष 10 अर्थव्यवस्थाओं में गिना जाता है।दुनिया अब यह मानने लगी है कि 2030 तक भारत दुनिया की तीन शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं में गिना जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

बीएचयू और एएमयू के नाम नहीं बदले जाएंगे : जावड़ेकर

Spread the loveनई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी( बीएचयू) और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के नाम बदलने का सरकार का फिलहाल कोई इरादा नहीं है। इस मामले में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सरकार का रुख साफ […]

You May Like