मात्स्यिकी एवं जलजीव पालन ऐसे बहुआयामी विषय हैं जहां वैज्ञानिकों एवं तकनीकविदों को कार्य करने की जरुरत है : उपराष्‍ट्रपति

Spread the love

उपराष्‍ट्रपति  एम वेंकैया नायडू ने कहा है कि मात्स्यिकी एवं जलजीव पालन ऐसे बहुआयामी विषय हैं जहां वैज्ञानिकों एवं तकनीकविदों को कार्य करने की जरुरत है। वह आज केरल के कोच्चि में ‘मात्स्यिकी एवं जलजीव पालन में नवोन्‍मेषणों को बढ़ावा देना’ थीम पर 11वें भारतीय मात्स्यिकी एवं जलजीव पालन फोरम का उद्घाटन करने के बाद उपस्थित जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर केरल के राज्‍यपाल  पी सतसिवम, केरल की मात्स्यिकी, बंदरगाह अभियांत्रिकी एवं काजू उद्योग मंत्री श्रीमती जे मर्सीकुट्टी अम्‍मा, केरल के स्‍थानीय स्‍व शासनों, अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण, वक्‍फ एवं हज मंत्री डॉ. के टी जलील एवं अन्‍य गणमान्‍य व्‍यक्ति भी उपस्थित थे।

उपराष्‍ट्रपति  ने कहा कि समाज हमारे देश को न केवल पौषणिक और खाद्य सुरक्षा उपलब्‍ध कराने के लक्ष्‍य को हासिल करने में सहायता कर रहा है बल्कि उद्यमशीलता, आय सृजन, स्‍व रोजगार, व्‍यापार एवं वाणिज्‍य के लिए अवसरों का सृजन भी कर रहा है। उन्‍होंने कहा कि भारत वैश्विक मछली उत्‍पादन में केवल 6.3 प्रतिशत का योगदान देता है जोकि राष्‍ट्रीय जीडीपी का 1.1 प्रतिशत और देश के कृषि जीडीपी का 5.15 प्रतिशत भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

भारत, दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा मछली उत्पादक देश है: श्री राधा मोहन सिंह

Spread the loveकेन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री, श्री राधा मोहन सिंह ने कहा है ई.ई.जेड में मत्स्यन के लिए पूर्व में लागू की गयी “लेटर ऑफ परिमट” या “एल.ओ.पी.” व्यवस्था को जनवरी 2017 से बंद कर दिया गया है तथा पारम्परिक मछुआरों के हितों को ध्यान में रखते हुए […]

You May Like