राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने लघु फिल्म व निबंध प्रतियोगिताओं व ‘‘गंगा आर्ट मैराथन’’ प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया

Spread the love

देहरादून,।देवभूमि खबर।। ओएनजीसी सभागार में स्वच्छ भारत दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल डॉ. कृष्ण कांत पाल व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ‘‘स्वच्छ संकल्प से स्वच्छ सिद्धि’’ के अंतर्गत लघु फिल्म व निबंध प्रतियोगिताओं व ‘‘गंगा आर्ट मैराथन’’ प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया। इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अन्य लोगों को भी सम्मानित किया गया। इनमें स्वच्छ भारत मिशन में उच्च शिक्षण संस्थाओं की राष्ट्रीय स्तर की स्वच्छता रेैंकिंग में प्रथम स्थान के लिए चयनित जीबी पंत कृषि विश्वविद्यालय, पंतनगर के कुलपति, स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) में देश में प्रथम स्थान पर चयनित जिला बागेश्वर के सी.डी.ओ. व स्वच्छता जागरूकता के लिए नायाब पहल पर जिलाधिका उत्तरकाशी को सम्मानित किया गया।
पुरस्कार विजेताओं को बधाई देते हुए राज्यपाल डॉ. कृष्ण कांत पाल ने कहा कि महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीका में सबसे पहले सफाई के लिए जनजागरूकता की पहल की। वर्ष 2014 में गांधी जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छा भारत मिशन प्रारम्भ कर स्वच्छता के महत्व को दुबारा लोगों के बीच में रखा। पिछले तीन वर्षों में स्वच्छता क मिशन को काफी कामयाबी भी मिली है। लगभग 25 करोड़ देशवासी खुले में शौच से मुक्त हो चुके हैं। लोगों की बढ़ती भागीदा से स्वच्छता की मुहिम में और तेजी आ रही है। लोगों में अभियान के प्रति स्वीकार्यता बढ़ी है। राज्यपाल ने कहा कि स्वच्छता हमा मानसिकता से जुड़ा प्रश्न है। गंदगी को बरदाश्त करने की मनोभावना से बाहर आना होगा। प्रधानमंत्री जी ने ‘‘न गंदगी करूंगा और न ही गंदगी करने दूंगा’’ का जो संकल्प हमें दिलाया है, उसका दृढ़ निश्चय के साथ पालन करना है। केवल सफाई करनी ही नहीं है, इसे बरकरार भी रखना है। स्वच्छता का मिशन लगातार चलते रहना चाहिए।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्वच्छ भारत मिशन के सपने को साकार करने के लिए जन सहयोग जरू है। स्वच्छता अभियान केवल सरका कार्यक्रम तक ही सीमित न रहे, बल्कि इसे जनआन्दोलन के रूप में आगे बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा कि नई पीढ़ी को स्वच्छ, स्वस्थ, निर्मल एवं समृद्ध भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देना होगा। स्वच्छता को जीवन का एक हिस्सा बनाना जरू है। जब किसी मिशन को जनता अंगीकार कर लेती है तो वह अवश्य सफल होता है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड ग्रामीण क्षेत्रों में खुले में शौच मुक्त होने वाला देश का चौथा राज्य है। मार्च 2018 तक शह क्षेत्र को भी पूर्णतः ओडीएफ करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने खुले में शौच से मुक्ति के लिए शौचालय बनाने हेतु धनराशि को 4 हजार से बढ़ाकर 10 हजार 800 रूपये करने पर शह विकास मंत्री एवं वर्तमान उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू का आभार व्यक्त किया। हरिद्वार एवं ऋषिकेष में घने आबादी वाले क्षेत्रों में सामुदायिक शौचालय बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदूषण को रोकने के लिए पर्यावरण का संतुलित होना जरू है। गंगा के संरक्षण के लिए उत्तराखण्ड वासियों का दायित्व और भी बढ़ जाता है। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, सांसद माला राजलक्ष्मी शाह, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अजय भट्ट, मुख्य सचिव एस.रामास्वामी सहित अन्य गणमान्य उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

महात्मा गांधी का स्वच्छ भारत का सपना आज पूरे देश का मिशन बन चुका है:सीएम

Spread the loveदेहरादून ।देवभूमि खबर।। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को गांधी एवं शास्त्री जयंती के अवसर पर मुख्यमंत्री आवास और गांधी पार्क में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री की तस्वीरों और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस […]

You May Like