वाहनों का बीमा बगैर प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र नहीं होः सुप्रीम कोर्ट

Spread the love

प्रदूषण पर अंकुश पाने के प्रयास में उच्चतम न्यायालय ने आज ‘प्रदूषण नियंत्रण में प्रमाण पत्र’ के बगैर वाहनों का बीमा नहीं करने का बीमा कंपनियों को निर्देश देने के साथ ही आज अनेक निर्देश जारी किये। न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने सडक परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में ईंधन भरने वाले सभी केन्द्रों में वाहनों के प्रदूषण की जांच करने वाले केन्द्र हों।

 न्यायालय ने केन्द्र को यह सुनिश्चित करने के लिये चार सप्ताह का समय दिया है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रदूषण की जांच करने वाले सभी केन्द्र चालू हों ताकि वाहनों को प्रदूषण नियंत्रण में प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकें। शीर्ष अदालत ने पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण द्वारा दिये गये सुझावों पर विचार किया। न्यायालय पर्यावरणविद अधिवक्ता महेन्द्र चन्द्र मेहता द्वारा राजधानी में वायु प्रदूषण की चिंताजनक स्थिति को लेकर 1985 में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई कर रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

किसानों की समस्याओं का उपवास इंदिरा ने तुड़वाया

Spread the loveरुद्रपुर।। देवभूूमि खबर। किसानों के कर्ज माफी का सपना दिखाने के बाद उनके वोट हासिल करने वाली भाजपा सरकार के खिलाफ पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़ एवं कांग्रेस जिलाध्यक्ष नारायण सिंह बिष्ट का कलक्ट्रेट में चल रहा 24 घंटे का उपवास नेता प्रतिपक्ष डा. इंदिरा हृदयेश ने जूस पिला […]