हमारी धमकी को नजरअंदाज न करें मोदी: चीन

Spread the love

नई दिल्ली। 1962 में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू मान रहे थे कि चीन हमला करने का जोखिम नहीं उठाएगा, लेकिन इतिहास इस बात का गवाह है कि हमने भारत को किस तरह का सबक सिखाया था। चीन के सरकारी अखबार ने यह टिप्पणी डोकलाम विवाद पर की है।

चीन की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नसीहत है कि वह नेहरू की गलती को न दोहराए, अन्यथा हालात फिर से 1962 की तरह से हो सकते हैं। संपादकीय में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी का यही रुख रहा तो स्थिति का विस्फोटक होना तय है। ऐसी स्थिति में भारत को नुकसान उठाना पड़ेगा।

अखबार में यह दावा भारतीय अधिकारी की उस टिप्पणी के बाद किया गया है जिसमें कहा गया था कि चीन युद्ध का जोखिम नहीं उठाएगा। चीन का कहना है कि युद्ध के 55 साल बीतने के बाद आज भी भारत सरकार नेहरू सरीखे घिसे पिटे व अनुभवहीन ढर्रे पर काम कर रही है। अखबार में लिखा गया है कि अगर मोदी सरकार चीन की चेतावनी को अनसुना करती रही तो उसे फिर से 1962 जैसे हश्र का सामना करना पड़ेगा। भारत यह न समझे कि चीन की सरकार व सेना देश की संप्रभुता की रक्षा करने में पीछे हट जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

दीवारों पर लगे राहुल गांधी के लापता होने के पोस्टर,

Spread the loveअमेठी। राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र में उनकी ही लापता होने के पोस्टर लग गए हैं। इन पोस्टर्स में राहुल को ढूंढ कर लाने पर इनाम की घोषणा भी की गई है। घटना के बाद कांग्रेस ने इस मामले में साजिश का आरोप लगाया है। खबरों के अनुसार […]

You May Like