उत्तराखण्ड की संस्कृति अनमोल है:नेगी

Spread the love

नित्यानन्द भटट

देहरादून। ।देवभूमि खबर।संस्कृति का किसी भी समाज प्रदेश से अटूट संबध के साथ उसकी पहचान होती है। देवभूमि उत्तराखण्ड की प्राकृतिक विविधता,.सांस्कृतिक परम्परा, हिमालय की सौन्दर्यता का विश्व मे अलग पहचान रखती है। यंहा के चार धाम जंहा लोगो को आध्यात्म की ओर ले जाते है वंही प्राकृतिक सौन्दर्यता पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है । देवभूमि जंहा विविधता से परिपूर्ण हैं वंही संस्कृति को अलग पहचान देने मे इस भूमि मे निवास करने वाले लोगों के पहनावा ,यंहा के पहाड़ी नृत्य ढोल दमाउ की ताल इन्सानों को नाचने पर मजबूर करती है। लेकिन पहाड़ो से लगातार हो रहे पलायन ने हमारी संस्कृति को हमसे दूर कर दिया है । इस संस्कृति को जीवित रखने के लिए जंहा उत्तराखण्ड संस्कृति विभाग लोगों को कार्यक्रम के माध्यम से जागरूक कर रहा है वंही इस की कमान संभालें निदेशक बीना भटट एंव रंगमंडल के संयोजनक बलराज नेगी लगातार राज्य की पुरानी पहचान को जीवित रखने के लिए कमर कसे हुये है। पहाड़ की संस्कृति को जीवित रखने को लेकर चल रही कोशिश को लेकर गोल्डन जुबली गढवाली फिल्म घरजवंै के नायक रामु यानि रंगमंडल के संयोजक बलराज नेगी से बातचीत की हमारे मुख्य संवाददाता नित्यानन्द भटट ने उत्तराखण्ड की संस्कृति भले ही अपनी पहचान खोने लगी थी लेकिन आज हमारी संस्कृति फिर पूर्ण रूप से अपने पुराने रंग मे आने लगी है । विभाग द्वारा ढोल दमाउ की ताल को और बढाने के लिए ढोल दमाउ निशुल्क दिये जा रहे है। इन पर ताल देने वालों को पेंशन की व्यवस्था की जा रही है। जगह जगह सांस्कृतिक कार्यक्रम और कलाकारों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। नेगी ने कहा कि पूरे विश्व मे उत्तराखण्ड के लोग अपनी संस्कृति से प्रेम करते है और जंहा भी जो मिलता है अपनी भाषा में बोलने पर अपनी शान समझता है एक सवाल के जवाब मंे उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड की संस्कृति यंहा की समस्यायें पर फिल्म बननी चाहिए घरजवैं फिल्म की सफलता का कारण था कि इस फिल्म में मधुर संगीत के साथ-साथ एक ऐसी पटकथा थी जो दर्शको के मन को छू गई । नेगी ने कहा कि हमें कुछ पल अपने बच्चों के साथ बैठकर अपनी भाषा में बात करनी चाहिए ताकि हमारा बच्चा अपनी भाषा में बात करनी चाहिए ताकि हमारा बच्चा अपनी भाषा की समझ रख सके और अपनी संस्कृति के प्रति आकर्षित हो सके । संस्कृति विभाग उत्तराखण्ड की संस्कृति को और लोकप्रिय बनाने के लिए वही योजनायें बना रही है। हमारा मकसद उत्तराखण्ड की संस्कृति को विश्व मे पहचान दिला देे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

लैंड पूलिंग- दिल्‍ली के शहरी विकास के लिए नया प्रतिमान : श्री हरदीप पुरी

Spread the loveनई दिल्ली।पीआईबी।आवास एवं शहरी मामलों के राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री हरदीप एस. पुरी ने कहा है कि लैंड पूलिंग दिल्‍ली के शहरी विकास के लिए एक नया प्रतिमान है, जिसमें निजी क्षेत्र भूमि को एकत्रित करने और भौतिक एवं सामाजिक बुनियादी ढांचे के विकास में सक्रिय भूमिका […]

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/devbhoom/public_html/wp-includes/functions.php on line 5279

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/devbhoom/public_html/wp-includes/functions.php on line 5279