रोजगार पैदा करने के लिए सरकार, राफटिंग कम्पनियाॅ व अधिकारी मिलकर बनायेगे ठोस नीति:अग्रवाल

Spread the love
नई टिहरी ।देवभूमि खबर।पर्यटन पखवाडे के अन्तर्गत विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चन्द्र अग्रवाल ने शिवपूरी में आयोजित रिवर राफटिंग प्रतियोगिता में सफल प्रतिभागियों को पुरुस्कार वितरण के उपरान्त अपने सम्बोधन में कहा कि उत्तराखण्ड देवभूमि, वीरो की भूमि के रुप में पूरे देश में जानी जाती है वही उत्तराखण्ड अब पर्यटन के रुप में भी देष व विदेश में अपनी पहचान बना राह है। इस अवसर पर आयोजन समिति को ओर से प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली टीम एक्स हिमालय एडवेन्चर1 को 21 हजार, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाली टीम कैम्प सी हॉक बी को 11 हजार तथा तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली टीम 51 सौ रु0 के चौक के साथ ही प्रषस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह भी विधासभा अध्यक्ष द्वारा वितरित करते हुए प्रतिभागियों के लिए उंचाईयॉ प्राप्त करने की कामना की। इस प्रतियोगिता में राप्ट एसोसिएशन के अन्तर्गत पंजीकृत 31 टीमों के 200 से अधिक लोगों ने भागीदारी की। मंगलवार को पर्यटन विभाग एवं गंगा रिवर राफटिंग प्रबंधन समिति के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित रिवर राफटिंग प्रतियोगिता में विभिन्न राफटिंग कम्पनियों ने प्रतिभाग किया। इस अवसर पर अग्रवाल ने कहा कि यह क्षेत्र रिवर राफटिंग के रुप में विकसित होगा और इस राफटिंग कार्यक्रम में 3 हजार से अधिक लोग प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रुप से रोजगार मिल रहा है। उन्होने कहा कि रिवर राफटिंग साहसिक कार्यक्रम में पूरे वर्ष में 10 से 15 लाख पर्यटक इसमें हिस्सेदारी करते है। उन्होने बताया कि सरकार का प्रयास होगा कि एनजीटी मानकों के अनुरुप इस क्षेत्र में नागरिक सुविधाओं, पंहुच मार्ग व शौचालयों की व्यवस्था कर पर्यटकों की संख्या में इजाफा करने की दिशा में कार्य किया जायेगा। उन्होने बताया कि राफटिंग से रोजगार पैदा करने के लिए सरकार, कम्परियॉ तथा अधिकारी मिलकर ठोस निति बनायेगी ताकि अधिक से अधिक लोगो को रोजगार मिल सके। वही इस क्षेत्र में वन भूमि हस्थान्तरण से सम्बन्धित समस्याओं की शीघ्र ही निस्तारित किया जायेगा। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई ने कहा कि रिवर राफटिंग गाईड प्रशिक्षण के लिए कोटी कालोनी स्थित साहसिक खेल ऐकेडमी के माध्यम से निर्धारित मानकों के अनुसार शासन स्तर पर पहल की जायेगी ताकि इस क्षेत्र में रुची रखने वाले युवाओं को राफटिंग के क्षेत्र में दक्षता प्रदान की जा सके वही इस क्षेत्र के पर्यटन स्थलों का भी इण्टरनेट के माध्यम से प्रचारप्रसार किया जायेगा। उन्होने कहा कि जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गंगा नदी रिवर राफटिंग प्रबंधन समिति के बनने के बाद 300 से अधिक फर्जी राफटिंग कम्पनियों पर प्रतिबंध लगा है वही समिति में पंजीकृति कम्पनियों को और अधिक सुविधायें प्रदान की जा रही है। उन्होने कहा कि समिति द्वारा पंजीकरण के दौरान जो भी शुल्क लिया जायेगा उससे इस क्षेत्र में पर्यटन सुविधाओं का विकास किया जायेगा। इस अवसर पर रिवर राफटिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष देवेन्द्र रावत ने राफटिंग के मानकों के सम्बन्ध में एक मांग पत्र भी विधासभा अध्यकक्ष को सौपा जिसपर अग्रवाल ने यभासम्भव कार्यवाही का आश्वासन दिया। इस अवसर पर उपजिलाधिकारी नरेन्द्रनगर लक्ष्मीराज चौहान, प्रधान शिवपूरी विनोद पाण्डेय, व्यापार मंण्डल के उपाध्यक्ष विरेन्द्र गुसांई, विश्व काईकिंग विजेता जॉहन स्पेनी, जिला पर्यटन अधिकारी सोबत सिंह राणा, भीम सिंह चौहान, धर्मेन्द्र नौटियाल, वेदप्रकाश मैठाणी के अलावा बड़ी संख्या में रिवर राफटर व दर्शक मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

योजनाओं में खर्च की धीमी रफ्तार पर मुख्यमंत्री ने की नाराजगी व्यक्त

Spread the love देहरादून ।देवभूमि खबर। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को सचिवालय में राज्य स्तरीय सतर्कता एवं निगरानी समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कई योजनाओं में खर्च की धीमी रफ्तार पर नाराजगी व्यक्त की। मुख्यमंत्री ने संबन्धित विभागों को खर्च की रफ्तार बढ़ाते हुए कार्यो में गति […]

You May Like