राष्ट्रपति ने इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय परिसर में ‘न्‍याय ग्राम’ परियोजना की आधारशिला रखी

Spread the love

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आम आदमी की भाषा में न्‍यायिक कार्य किये जाने पर बल दिया है। आज इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय के आवासीय और प्रशिक्षण परिसर ‘न्‍यायग्राम’ की आधारशिला रखने के बाद उन्‍होंने कहा कि गरीब लोगों को न्‍याय उपलब्‍ध कराने के लिए न्‍यायालयों को सुनवाई टालने की आदत से परहेज करना चाहिए।
उन्‍होंने कहा कि न्‍यायपालिका की स्‍वतंत्रता हमारे लोकतंत्र का आधार है। उन्‍होंने कहा कि समय से सभी को न्‍याय मिले, न्‍याय व्‍यवसथा कम खर्चीली हो और सामान्‍य आदमी की समझ में आने वाली भाषा में न्‍याय देने की व्‍यवस्‍था की जानी चाहिए। उन्‍होंने खासकर महिलाओं तथा कमजोर वर्ग के लोगों को न्‍याय दिलाने की आवश्‍यकता पर बल दिया। उन्‍होंने कहा कि यह हम सबकी जिम्‍मेदारी है। श्री कोविंद ने कहा कि न्‍याय मिलने में देर होना भी एक तरह का अन्‍याय है। गरीबों के लिए न्‍याय प्रक्रिया में होने वाले विलंब का बोझ असहनीय होता है।
राष्‍ट्रपति ने कहा कि न्‍यायिक ढांचे को मजबूत बनाने की आवश्‍यकता है। उन्‍होंने उम्‍मीद ज़ाहिर की कि न्‍यायग्राम परियोजना इलाहबाद उच्‍च न्‍यायालय की जरूरतें पूरी करने में मील का पत्‍थर साबित होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

सजीव धरोहर के संरक्षण और प्रबंधन के लिए समुदायों की भागीदारी आवश्‍यक है: डा. महेश शर्मा

Spread the loveसंस्‍कृति (स्‍वतंत्र प्रभार), और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्‍य मंत्री डा. महेश शर्मा ने कहा है कि भारत सरकार अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍मारक एवं स्‍थल परिषद (आईसीओएमओएस) की गतिविधियों में सहायता करने के प्रति वचनबद्ध है। डा. शर्मा 15 दिसम्‍बर, 2017 को नई दिल्‍ली में आईसीओएमओएस इंटरनेशलन की 19वीं […]

You May Like