हिमानी शिवपुरी एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री

Spread the love
हिमानी शिवपुरी का जन्म 24 अक्टूबर 1960 देहरादून उत्तराखंड में हुआ था। उनके पिता  हरी दत्त भट्ट एक स्कूल थे।
पढाई
हिमानी शिवपुरी ने अपनी शुरूआती पढ़ी दून स्कूल देहरादून से संपन्न की है। वह आर्गेनिक केमेस्ट्री में परास्नातक हैं। हिमानी अपने स्कूली दिनों से अभिनय की दीवानी थी, वह अपने स्कूल में इन सब प्रतियोगिताओ में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेतीं थी। इसके बाद उन्होंने नई दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में दाखिला ले लिया।
शादी
हिमानी शिवपुरी की शादी ज्ञान शिवपुरी से हुई थी। उनके पति की मृत्यु लम्बी बीमारी के बाद वर्ष 1995 में हो गयी। उनके बेटा भी है।
करियर
नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से पास आउट होने के बाद हिमानी ने मुंबई का सफ़र तय कर लिया। उन्हें हिंदी सिनेमा में पहला मौका पंकज पाराशर की फिल्म अब आएगा मजा से मिला। उन्हें  हिंदी सिनेमा में सबसे बड़ा ब्रेक वर्ष 1999 में सूरज बडजात्या की फिल्म हम आपके हैं कौन से मिला था। उन्होंने हिंदी की कई सुपरहिट फिल्मों कुछ कुछ होता है, परदेश, दिल वाले दुल्हनिया ले जायेंगें, अंजाम, कोयला में बतौर सहायक अभिनेत्री नजर आ चुकीं हैं। उन्होंने कई वर्षों तक यशराज बैनर, धर्म प्रोडक्शनस, राजश्री प्रोडक्शनस की सुपरहिट फिल्मों में सहायक अभिनेत्री की भूमिकायें अदा की। हिमानी शिवपुरी जल्द ही फिल्म विनोद प्रधान की फिल्म वेडिंग पुलाव में नजर आनी वाली हैं।
टीवी करियर
उन्होंने अपने टीवी करियर की शुरुआत दूरदर्शन के शो हमराही से की थी।  इस शो का निर्देशन कुंवर सिन्हा ने किया था।  इस शो के किरदार ‘देवकी भौजाई’ ने उन्हें घर-घर में पहुंचा दिया था।  इसके बाद वह बालाजी टेलेफिल्म्स के शो कसौटी जिन्दगी की, क्योँकि सास भी कभी बहु थी जैसे शोज़ में नजर आई।
प्रसिद्ध फ़िल्में
अब आएगा मजा, कुछ कुछ होता है, हम आपके हैं कौन, हम साथ साथ हैं, दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे, हां मेने भी प्यार किया है, मेहँदी, चोरी चोरी चुपके चुपके, किस्मत कनेक्शन, मैं प्रेम की दीवानी हूँ, कुछ न कहो, कोई मेरे दिल में है, कोयला, उमराव जान, आ अब लौट चले।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

निशानेबजी में चमकने वाले जसपाल राणा

Spread the loveजसपाल राणा को भारतीय शूटिंग टीम का ‘टार्च बियरर’ कहा जाता है । उन्होंने अनेक प्रतियोगिताओं में भारत के लिए पदक जीत कर भारत का मान बढ़ाया है । उन्होंने 1995 के सैफ खेलों में चेन्नई में 8 स्वर्ण तथा 1999 के काठमांडू में सैफ खेलों में 8 […]

You May Like