चमोली में बदरीनाथ यात्रा मार्ग पर मोबाइल खाद्य परीक्षण विश्लेषण शाला हुई तैनात

Spread the love

चमोली।चारधाम यात्रा को देखते चमोली जनपद में खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता को लेकर प्रशासन की ओर से नियमित निरीक्षण किया जा रहा है। साथ ही खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता की जांच के लिये बदरीनाथ यात्रा मार्ग पर मोबाइल खाद्य परीक्षण विश्लेषण शाला की तैनाती की गई है। जिसके माध्यम से मौके पर ही खाद्य पदार्थों की जांच की जा रही है। जिसके तहत शनिवार को चमोली बाजार में 70 खाद्य पदार्थों के नमूने लेकर मौके पर ही जांच की गई।

बदरीनाथ यात्रा पर आने वाले तीर्थ यात्रियों को सुरक्षित एवं गुणवत्ता युक्त भोजन की उपलब्ध करने के उद्देश्य से शनिवार को एफडीए उत्तराखंड एवं जिला प्रशासन, चमोली की संयुक्त टीम ने यात्रा मार्ग पर सघन निरीक्षण अभियान चलाया। इस दौरान यात्रा मार्ग पर तैनात मोबाईल खाद्य परीक्षण विश्लेषण शाला में बाजारों से लिए 70 खाद्य पदार्थों की नमूनों की जांच की गई। जिनमें से 13 खाद्य पदार्थ मानकों के अनुरूप नहीं पाए गए।

हालांकि खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता मानव के असुरक्षित नहीं पाया गया। जिस पर कारोबारियों को खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता पर ध्यान देने के निर्देश दिए गए। साथ ही टीम ने निरीक्षण के दौरान दो दुकानों में कालातीत हुई सामग्री को नष्ट करवा दिया है। अभिहित अधिकारी अमिताभ जोशी ने बताया कि मोबाइल खाद्य परीक्षण विश्लेषण शाला में किए गए परीक्षण की जानकारी  कारोबारियों और अन्य को दी गई। साथ ही खाद्य पदार्थों गुणवत्ता को लेकर भी जानकारी दी गई। कहा कि होटल, रेस्टोरेंट और ढाबा संचालकों को खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता बनाए रखने के साथ ही सफाई पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश दिए। बताया कि जनपद चमोली में खाद्य सुरक्षा को लेकर निरंतर औचक निरीक्षण की प्रक्रिया जारी रहेगी।

इस मौके पर अपर जिलाधिकारी विवेक प्रकाश, उप जिलाधिकारी राजकुमार पांडे, उपायुक्त लैब राजेन्द्र सिंह कठायत, अभिहित अधिकारी अमिताभ जोशी, वरिष्ठ खाद्य सुरक्षा अधिकारी संदीप मिश्र, कनिष्ठ खाद्य विश्लेषक मोबाईल लैब रमेश चन्द्र जोशी आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सभी अल्ट्रासाउण्ड क्लीनिकों पर पैनी नजर रखें व नियमित छापेमारी करें:जिलाधिकारी उदयराज सिंह

Spread the love रूद्रपुर। जनपद में शत-प्रतिशत गर्भधारण केस दर्ज करें तथा 12 सप्ताह सें 26 सप्ताह के मध्य होने वाले गर्भपात के कारणों की गहन जांच करें यह निर्देश जिलाधिकारी उदयराज सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में जिला सलाहकार समिति गर्भधारण पूर्व एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीकी अधिनियम  की बैठक […]

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/devbhoom/public_html/wp-includes/functions.php on line 5279

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/devbhoom/public_html/wp-includes/functions.php on line 5279