अत्याधुनिक उपकरणों से सुसज्जित प्रयोगशाला हिमालय क्षेत्र के भूगोल और भूगर्भ के अध्ययन और प्राकृतिक गति विधियों को समझने में सहायक होंगे : प्रोफेसर सुरेखा डंगवाल

Spread the love

देहरादून।दून विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर सुरेखा डंगवाल ने नित्यानंद हिमालय अनुसंधान और अध्ययन केंद्र (एनएनएचआरएससी) में अत्याधुनिक भू-स्थानिक सूचना विज्ञान और डिजिटल कार्टोग्राफी लैब्स का उद्घाटन किया जो दून विवि की शैक्षणिक बुनियादी ढांचे में एक महत्वपूर्ण प्रगति है। ये प्रयोगशालाएँ भूगोल और भूविज्ञान विभागों में उत्कृष्ट और आधुनिक शोध करने के लिए आधार प्रदान करेंगी।

समारोह की अध्यक्षता दून विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुरेखा डंगवाल ने की।

प्रो. डंगवाल ने अपने संबोधन में कहा कि नित्यानंद हिमालयन अनुसंधान और अध्ययन केंद्र में स्थापित इन प्रयोगशालाओं से भारत में हिमालयी अनुसंधान के लिए दून विवि एक राष्ट्रीय स्तर पर अग्रणी बन सकेगा । लैब में स्थापित आधुनिक इक्विपमेंट और इंस्ट्रूमेंट की मदद से दून विश्वविद्यालय के विद्यार्थी स्नातक, परास्नातक और पीएचडी के स्तर पर बेहतरीन शोध कर पाएंगे जिससे उनके अंदर आवश्यक कौशलों को विकसित करने में मदद मिलेगी और बाजार में उपलब्ध नौकरी की मांग को वह पूरा कर पाएंगे। यह लैब की सहायता से दून विश्वविद्यालय विभिन्न क्षेत्रों में शिक्षा, अनुसंधान और समस्या-समाधान में अपनी क्षमताओं को बढ़ाने के लिए अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करने की प्रतिबद्धता दर्शाता है।

प्रोफेसर डंगवाल ने बताया कि इन प्रयोगशालाओं में अत्याधुनिक सुविधाएं हैं, जिनमें उद्योग के अग्रणी जीआईएस और आर्कजीआईएस और ईएनवीआई जैसे रिमोट सेंसिंग सॉफ्टवेयर के साथ एकीकृत 40 उच्च-स्तरीय कंप्यूटर शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, प्रयोगशालाएँ LiDAR ड्रोन, ग्राउंड पेनेट्रेटिंग रडार (GPR), इलेक्ट्रिकल रेसिस्टिविटी टोमोग्राफी (ERT), और वॉटर आइसोटोप एनालाइज़र जैसे अत्याधुनिक भूभौतिकीय उपकरणों से सुसज्जित हैं। ये उन्नत उपकरण भूविज्ञान और भूगोल दोनों में छात्रों और शोधकर्ताओं को अभूतपूर्व अनुसंधान करने और हिमालयी क्षेत्र और उससे आगे महत्वपूर्ण चुनौतियों से निपटने के लिए सशक्त बनाएंगे।

कार्यक्रम में प्रो. एचसी पुरोहित, प्रो. डीडी चौनियाल, प्रो. वाईपी सुंद्रियाल, डॉ. विपिन सैनी और डॉ. राजेश भट्ट, श्री नरेंद्र लाल, श्री देवेंदु रावत, श्री रोहित जोशी और श्री मनमोहन आदि अधिकारी शामिल हुए। साथ ही विभाग के प्राध्यापक डॉ. विपिन कुमार, डॉ. अंशुमन मिश्रा, डॉ. राजीव अहलूवालिया, डॉ. अविजीत सहाय, डॉ. पल्लवी उप्रेती और डॉ. सोनू कौर सहित विधार्थियों में इन प्रयोगशालाओं के उद्घाटन से विशेष उत्साह दिखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अंगदान से बड़ा कोई दान नहीं : कथूरिया मोहन

Spread the love ऋषिकेश।मोहन फाउंडेशन एवं लायंस क्लब ऋषिकेश देवभूमि द्वारा अंगदान जन जागरूकता अभियान के अंतर्गत एक गोष्ठी का आयोजन शिवालिक भागीरथी पब्लिक स्कूल में किया गया। मोहन फाउंडेशन के अंगदान प्रेरक संचित अरोड़ा ने विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि भारत में ब्रेन डेथ (मस्तिष्क मृत्यु) की दर […]

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/devbhoom/public_html/wp-includes/functions.php on line 5279

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/devbhoom/public_html/wp-includes/functions.php on line 5279